ट्रेन का डब्बा या सुकन का पिटारा

आज ट्रेन से सफर करते हुए अचानक ये ख्याल आया कि रोजमर्रा की जिंदगी  में यूं टिक कर बैठने का तो वक़्त कभी मिला ही नहीं।शायद इसलिए लोग वक़्त निकालकर छुट्टियां बिताने कहीं दूर जाते हैं।

ना सुबह के अलार्म का डर है  ,और ना घंटी बजने पर दरवाजा  खोलना है ,

अगर ऐसा ही है तो क्यूं ना घर को ही ट्रेन का डब्बा समझ कभी टिक लिया जाए ,आराम तो घर में ही  है जाने क्यूं लोग इसे ट्रेन के डब्बों में खोज रहे हैं।

सफर भी बड़ा दिलचस्प है जितना लंबा हो उतना सुकून देता है

 

नींद का बिछोना

 गर्मी की छुट्टियों में जब बड़ी मुश्किल से पिट पिटाने के बाद अगर नींद लग गई तो घर वालो का वापस उठाना मुश्किल होता था

कितना प्यारा नींद का बिछोना था कोई फ़िक्र नहीं की कब उठना है।

कभी कभी तो  सीधे सुबह ही उठते थे आज कहां ऐसी बेफिक्री है छुट्टी भी हो तो भी वो नींद नहीं आ सकती

आज अपने बच्चे को सोता देख फिर वही नींद का  बिछोना याद आया तो सोचा आप सभी को याद दिलाएं हम सभी का प्यारा बचपन हम अपने बच्चो में वापस जी सकते हैं।

बच्चों को खेलने दे दौड़ने दे उन्हें मस्ती करने दे और उनके साथ खेलते कूदते अपना बचपन भी छू ले।

 

 

 

 

 

 

 

 

Ulta chashma……

Ji haan ye reference Maine tarak Mehta k Ulta chashma se hi liya hai.

Dekha Jaye to baat bilkul sahi hai agar halat ko kuch alag nazariye se dekhe to kuch had Tak ye madadgar hi hota hai.Masran agar aap apni kisi samsya ko kisi dost se share karte Hain to kahi na kahi wo aapko wo salaah de deta hai Jo aap jante huye bhi soch nhi pate.

Iska Karan hai ki wo jis nazariye se aapki samsya ko dekhta aur samjhta hai wo third eye view aap use nhi Kar pate.

Iska mool Karan yahi hai ki aap prayah chinta vyakulta aur bhavukta ke sath sochte hai ,Zara sa nazariya badalkr agar whi samsya k bare me soche to shayad uska samna kuch behtar dhang see Kar paye.

To koshish jarur Kare agli baar kisi uljhan me fase to chashma ghuma Kar halat ko dekhne ki koshish Kare,Kya pata samadhan aapke saamne hi ho…………

Kash…

Haan Ye shabd suna suna sa hai aur sabhi ke dil me ye hamesha jagah bana hi leta hai.

Aur har ek ki zindgi me ye ek khas ahmiyat rakhta hai.

Jaise kabhi kabhi aisa lagta hai ki kaash sab phle jaise ho jaye .

kash hum wapas bachpan ke ya jawani k un khas dino me laut jaye jo hamare liye meethi yaden sanjoye huye hain.

Par jaise jaise man me ye kaash ekathha ho rha hai hum khud ko aur bojh tale dabate chale ja rhe hain.

Insaan jindgi me sirf ye sochta hai ki jab aisa hoga to waisa karunga jaise ki jab paise kama lunga to khush ho jaunga…

Par sachhi baat to ye hai ki insaan agar aaj me ab me khush rhna seekh jaye aur aanandit hokar koi kaam me dil lagaye na ki koi shart rakh kar ki jab aisa hoga to hi khush hoonga.

To jeevan jeena aur kaam karna ek sukhad anubhaw ban jayega .

Haan ye sunne me ajeeb to lgta hai par agar dheere dheere agar ise hum jeevan me jagah de, to anandit rhna baut sahaj aur swabhavik ho jayega .

To kya khayal hai chaliye kosish karte hai aaj aur ab me khush rahne ki ………….